डा. वरिंदर भाटिया

प्राचीन भारतीय शिक्षा पद्धति का एक प्रमुख तत्त्व गुरुकुल व्यवस्था रही है। इसमें विद्यार्थी अपने घर से दूर गुरु के घर पर निवास कर शिक्षा प्राप्त करता था। गुरु के समीप रहते हुए विद्यार्थी उसके परिवार का एक सदस्य हो जाता था तथा गुरु उसके साथ पुत्रवत व्यवहार करता था। आत्म-निर्भरता की भावना विकसित होती

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल भारतीय उद्योग जगत ने पश्चिम को बताया है कि प्रबंधकीय विशेषज्ञता में वह भी उनसे कंधे मिला सकता है। आज कई बहुराष्ट्रीय भारतीय कंपनियों ने विदेशों में जाकर अन्य बहुराष्ट्रीय कंपनियों से न केवल टक्कर ली है, बल्कि उनसे ज्यादा अच्छे परिणाम दिए हैं। देश में पॉलिटिकल फ्रंट पर कामयाबी

वर्क फ्रॉम होम के इस कल्चर से फायदा भी और नुकसान भी हुआ। साल 2020 के जून और जुलाई के महीने में करीब 1000 लोगों पर किए गए सर्वे के मुताबिक भारत में वर्क फ्रॉम होम के कल्चर से हर तीन में से एक कर्मचारी ने हर महीने कम से कम तीन हजार से पांच

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल 5जी के जरिए न सिर्फ  अभी की तरह लोग आपस में जुड़े होंगे, बल्कि डिवाइसेज और मशीनें भी आपस में कनेक्ट होंगी और आपस में लगभग रियल टाइम में संवाद कर सकेंगी। यानी आने वाले समय में घर, कार, मोबाइल और घरेलू उपकरणों जैसी तमाम चीजों के आपस में कनेक्ट

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल इसके प्रसार को रोकने के लिए जरूरी है कि हमारे पास सही जानकारी हो और हम सावधान तथा जागरूक रहें। इस बात में शक नहीं है कि महामारी के इस दौर में कई लोगों को मानसिक तनाव हो सकता है। हो सकता है कि आपको बेचैनी महसूस हो रही हो,

डिस्ट्रिक्ट इन्फॉर्मेशन सिस्टम फॉर एजुकेशन (डीआईएसई) के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2010-11 से 2017-18 के बीच सरकारी स्कूलों के दाखिले में 2.38 करोड़ की कमी हुई, जबकि इसी अवधि में निजी गैर सहायता प्राप्त स्कूलों में होने वाले दाखिलों में 2.11 करोड़ की वृद्धि हुई। इन आंकड़ों में गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों में होने

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल ऑस्ट्रेलिया का उच्च शिक्षा ऋण कार्यक्रम व्यापक रूप से एक प्रशंसित मॉडल है, जिसे ऑस्ट्रेलियाई कर कार्यालय द्वारा संचालित किया जाता है। ऋण पुनर्भुगतान मात्रा को ऋण लेने वाले की आय के स्तर से जोड़ा जाता है और ऋण सीधे ऑस्ट्रेलियाई कर अधिकारियों द्वारा वसूला जाता है। एक-तिहाई आय अनुसंधान

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल भारत अपने नागरिकों को स्वच्छ पर्यावरण और प्रदूषण मुक्त वायु तथा जल उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारे देश के संविधान में पर्यावरण की रक्षा तथा उसमें सुधार की बात कही गई है। साथ ही भारतीय संविधान में कहा गया है कि यह भारत के प्रत्येक नागरिक का कर्त्तव्य

डा. वरिंदर भाटिया कालेज प्रिंसिपल बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था के फलने-फूलने के कई कारण हैं। पहली बात है कि बांग्लादेश अभी विकासशील देशों की लिस्ट में है। मतलब अभी विकास की गुंजाइश बची है। दूसरी बात बांग्लादेश में भारत जैसे मतभेद नहीं हैं। भारत में केंद्र सरकार एक बात कहती है तो कई राज्य सरकारें इसका

2019 में जारी नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट कहती है कि दिहाड़ीदार मजदूरों और विवाहित महिलाओं के बाद बेरोजगारों और छात्र-छात्राओं में आत्महत्या की प्रवृत्ति बढ़ी है। पिछले साल हर रोज 38 बेरोजगार और 28 छात्र-छात्राओं ने खुदकुशी की। ये आंकड़े बेकाबू होते हालात बयां करते हैं। 2019 में कुल 139123 लोगों ने