Browsing Category

कंचन शर्मा

दया याचिका सिस्टम खत्म हो

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं हैदराबाद गैंगरेप व हत्या की विभत्स घटना से देश भर में उपजा आक्रोश चारों अपराधियों की एनकाउंटर में हुई मौत से आमजन में अन्याय से निपटने की उम्मीद जागी है। पुलिस की भाषा में कहूं तो यह एनकाउंटर रेपिस्टों का…

महिलाओं का कोई चौकीदार नहीं.

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं आज भारत उस मुकाम पर पहुंच चुका है जहां तीन तलाक से मुक्ति मिल चुकी है, कश्मीर में धारा 370 से मुक्ति मिल चुकी है, अयोध्या जैसी समस्या का समाधान किया जा चुका है, समान आचार संहिता लागू करने की बात की जा रही…

महिलाएं कानून के प्रति सचेत हों

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं अभी हाल ही में हिमाचल में हुए राजदेई नामक 83 वर्षीया वृद्ध महिला के साथ अमानवीय व्यवहार ने समाज को अंदर तक झिंझोड़ कर रख दिया। एक ऐसी महिला जिसका पति नहीं, बेटा नहीं और उसे अशक्त मान…

पटवारी परीक्षा, बेरोजगारी की पराकाष्ठा

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं समाचारों की सुनें तो पटवारी के मात्र 1194 पदों के लिए 3,02,125 आवेदन पत्र प्रदेश सरकार को मिले जिससे हिमाचल में रोजगार की दशा स्पष्ट हो जाती है। इस परीक्षा को लेकर, इसके प्रश्न पत्र को लेकर व परीक्षा के…

कब खत्म होंगे रूढि़वादी अंधविश्वास

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं हिमाचल के मंडी जिला के सरकाघाट क्षेत्र में देव आस्था व अंधविश्वास के नाम पर जो शर्मनाक व दिल दहला देने वाली घटना घटित हुई है वह यकीनन हमारी देव परंपराओं, आस्था व विश्वास को सोशल मीडिया में वायरल हो रहे…

प्रेम विवाह और परिवार का सम्मान

कंचन शर्मा लेखिका शिमला से हैं मुझे नहीं लगता कि किसी भी परिवार, माता-पिता को अपनी बेटियों के प्रेम करने पर आपत्ति होती है, लेकिन वे इस आशंका से जरूर घबरा जाते हैं कि न जाने लड़का और उसका परिवार कैसा होगा। हालांकि ऐसा नहीं…

दुर्घटनाओं को खस्ताहाल सड़कें जिम्मेदार

कंचन शर्मा लेखिका शिमला से हैं हैरत यह भी है कि हिमाचल में सड़कों के जो खस्ताहाल हैं, उनके बारे में कोई नीति, दिशा-निर्देश या सख्ती की बात नहीं हो रही, जबकि अन्य कारणों के साथ बस दुर्घटनाओं के लिए खराब, बेतरतीब व बिना पैरापिट की सड़कें…

धर्म व शिक्षा स्थलों में अमानवीय जातिभेद

कंचन शर्मा लेखिका शिमला से हैं हिमाचल में कुल्लू की बंजार घाटी के थाटीबीड़ में एक मेले में देव कारिंदों ने लोक परंपरा के नाम पर अनुसूचित जाति के युवक के साथ मारपीट व जुर्माना लगाकर देव परंपरा को शर्मसार किया है। युवक के अनुसार उसे…

फोरलेन के नाम पर विकास या विनाश

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं फोरलेन के नाम पर हिमाचल में विकास की जो नींव रखी जा रही है, वह केवल फोरलेन बन जाने से ही निर्धारित नहीं होगी, बल्कि फोरलेन जो पर्वतीय विनाश कर रहा है उस विनाश के दुष्परिणाम दिखना शुरू हो गए हैं। एक ओर…

स्वच्छता कर्मियों की स्वच्छता का भी हो समाधान

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं स्वच्छता प्रणाली की शुरुआत हम स्वच्छता कर्मियों से करें, तो उनकी दयनीय स्थिति देखकर दुख होता है। गटर साफ करने वाले कर्मचारियों से बिना मास्क व आक्सीजन सिलेंडर के सफाई करवाना भी अमानवीय कृत्य है...…

हिमाचली सिनेमा को पालिसी बनाने की जरूरत

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं आज अगर हम पंजाब, केरल, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु व महाराष्ट्र के क्षेत्रीय सिनेमा की बात करें तो उन प्रदेशों की फिल्म पालिसी होने से ही राष्ट्र स्तर पर उनके क्षेत्रीय सिनेमा की पहचान है। इसी तरह से हिमाचल…

आधी आबादी की आशाएं

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला  से हैं देश की आधी आबादी होने के बावजूद अगर महिलाओं की स्थिति का आकलन किया जाए, तो बजट में देश के कुल संसाधनों में उनकी हिस्सेदारी बहुत कम है। केंद्रीय बजट को ही देखें तो सार्वजनिक क्षेत्रों में महिलाओं के लिए…

पर्यटन क्षेत्र को संवारे बजट

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं बजट की कमी के चलते आज तक प्राकृतिक सौंदर्य को सहेजने के लिए कुछ खास नहीं किया गया, जबकि असम, गुजरात, राजस्थान जैसे राज्य पर्यटन को विकसित करने में करोड़ों रुपए खर्च कर रहे हैं। हिमाचल में युवा वर्ग केवल…