श्री गोरख महापुराण

हनुमानजी के याद करते ही प्रभु राम तुरंत आ गए और हनुमानजी की अजीब अवस्था देखकर बोले, पवनसुत! क्या बात है? हनुमानजी ने अपने ऊपर आए हुए संकट का विवरण सुनाया और बोले, प्रभु आपके अजेय दास की दुर्दशा का क्या कारण है? जब श्रीराम प्रभु ने…

ऊर्जा को शक्ति में बदलना

सद्गुरु जग्गी वासुदेव कोइर् भी इनसान भौतिक, आध्यात्मिक या किसी भी स्तर पर कितना आगे जा सकता है, यह बुनियादी तौर पर इस बात पर निर्भर करता है कि अपने भीतर मौजूद ऊर्जा की कितनी मात्रा वह इस्तेमाल कर सकता है। यहां बहुत सारे ऐसे लोग…

आत्म पुराण

गतांक से आगे... इसीलिए श्रुति में उसे अव्याकृत कहा गया है। यह सत्ता निर्गुण ब्रह्म रूप होती है और उसी के लिए श्रुति में कहा है। यतो वाचो निवर्त्तंते अप्राप्य मनसा सह। अर्थात उस सत्ता के विषय में वाणी और मन दोनों की बति रुक जाती है।…

जीवन के आंतरिक अनुभव

बाबा हरदेव जीवन में जो भी हमारे हैं यह रस के अनुभव हैं, चाहे यह अनुभव सौंदर्य के हों,चाहे प्रेम के हों, चाहे संगीत के हों। मानो जो भी हमारे अनुभव हैं वह रस के अनुभव हैं क्योंकि अनुभव रसरूप हैं या ऐसा कहें कि समस्त अनुभव का जो निचोड़…

तिब्बत में छिपा है तंत्र ज्ञान

उसका बाल सुलभ मन, उसका चंचलपन देखते ही बनता था। उसका शरीर सफेद फूलों की लता-सा डोल रहा था। डोलमा का कुछ पता न था। शायद वह किसी कार्य से बाहर चला गया था। कब समय बीत गया, कुछ पता न चला। जिसी ने रात की सारी व्यवस्था कर दी। रात हो गई। सबको नींद…

व्रत एवं त्योहार

15 दिसंबर रविवार, मार्गशीर्ष, कृष्णपक्ष, चतुर्थी, गणेश चतुर्थी व्रत 16 दिसंबर सोमवार, पौष, कृष्णपक्ष, पंचमी, पौष संक्रांति 17 दिसंबर मंगलवार, पौष, कृष्णपक्ष, षष्ठी 18 दिसंबर बुधवार, पौष, कृष्णपक्ष, सप्तमी 19 दिसंबर बृहस्पतिवार,…

हैदराबाद का दौरा शहनाज को उदास कर गया

सौंदर्य के क्षेत्र में शहनाज हुसैन एक बड़ी शख्सियत हैं। सौंदर्य के भीतर उनके जीवन संघर्ष की एक लंबी गाथा है। हर किसी के लिए प्रेरणा का काम करने वाला उनका जीवन-वृत्त वास्तव में खुद को संवारने की यात्रा सरीखा भी है। शहनाज हुसैन की बेटी…

अनमोल वचन

* झुको उतना जितना सही हो, बेवजह झुकना दूसरे के अहम को बढ़ावा देना है * मकड़ी भी नहीं फंसती अपने बनाए हुए जालों में, जितना आदमी उलझा…

विवाद से परे है ईश्वर का अस्तित्व

कालांतर में वह आकांक्षा उसे स्वयं नर के रूप में परिणत कर सकती है। इसी प्रकार कोई नर यदि नारी के चिंतन और सान्निध्य में अतिशय रुचि लेता है तो उसकी चेतना नारी वर्ग में परिणत होने लगेगी और वह उस प्रवृत्ति की तीव्रता के अनुरूप देर में या जल्दी…

दादी मां के नुस्‍खे

* गले में खराश है, तो दो-तीन तुलसी के पत्ते पानी में उबालें और इस पानी से गरारे करें। * अस्थमा है तो एक बड़ा चम्मच शहद…

गीता जयंती

ज्ञान देकर कर्म का महत्त्व स्‍थापित किया गीता जयंती मार्गशीर्ष माह में शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाई जाती है। ‘गीता’ ग्रंथ का प्रादुर्भाव मार्गशीर्ष में शुक्ल एकादशी को कुरुक्षेत्र में हुआ था। महाभारत के समय श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को ज्ञान…

बाबा बालकनाथ मंदिर मैहरी

बिलासपुर जनपद मुख्यालय से उत्तर दिशा में करीब चालीस किलोमीटर की दूरी पर घुमारवी लदरौर वाया बस सड़क संपर्क मार्ग पर बाबा बालकनाथ का प्रसिद्ध मंदिर स्थित है। मंदिर में वर्णित सूचना पट्ट व ग्रामीणों के अनुसार इस स्थान पर स्थित विशालकाय पीपल के…

मां अन्नपूर्णा जयंती

ऐसी मान्यता है कि प्राचीन काल में एक बार जब पृथ्वी पर अन्न की कमी हो गई थी, तब मां पार्वती (गौरी) ने अन्न की देवी मां अन्नपूर्णा के रूप में अवतरित हो पृथ्वी लोक पर अन्न उपलब्ध कराकर समस्त मानव जाति की रक्षा की थी। जिस दिन मां अन्नपूर्णा की…

गीता मंदिर

मथुरा-वृंदावन मार्ग पर लगभग मध्य में हिंदू धर्म के महान श्री जुगलकिशोर जी बिड़ला का बनवाया भव्य गीता मंदिर है, जिसमें गीता गायक की संगमरमर की विशाल एवं सुंदर मूर्ति स्थापित है एवं संपूर्ण गीता विशिष्ट अक्षरों में पत्थर पर खुदी है ... मथुरा…

धन लक्ष्मी स्तोत्र

-गतांक से आगे... समस्तगुणसम्पन्ने सर्वलक्षणलक्षिते। शरच्चंद्रमुखे नीले नील नीरज लोचने।। 12।। चंचरीक चमू चारु श्रीहार कुटिलालके। मत्ते भगवती मातः कलकंठरवामृते।। 13।। हासाऽवलोकनैर्दिव्यैर्भक्तचिंतापहारिके। रूप लावण्य तारूण्य कारूण्य…