Divya Himachal Logo Mar 30th, 2017

प्रतिबिम्ब


लोकभाषाओं में बारहमासा परंपरा

लोकप्रवृत्ति एवं अनुभूति सर्वत्र एक समान हैं। अतः भारतीय लोकभाषाओं में भारतीय लोकमानस के अभिव्यक्ति धरातल भी सर्वत्र समानांतर मिलते हैं। लोक कवियों ने इस परंपरा में विरहिणी नायिका के मन पर ऋतु प्रभावों के अनुरूप भावों को बड़ी सहजता और सरलता से व्यंजित किया है। ऐसे प्रयोगों में आंचलिक ऋतु परिवर्तन अपने नैसर्गिक सौंदर्य के साथ, वनस्पतियों की विविधता से प्रभावित,विरह पीडि़ता लोकनायिका की मनःस्थितियां बड़े सहज और प्रतीक रूप से वर्णित हैं। मैथिली, अवधी, ब्रज, राजस्थानी, हरियाणवी, पंजाबी,डोगरी व पहाड़ी आदि लोकभाषाओं में इस परंपरा की सुंदर एवं हृदयस्पर्शी रचनाएं मिलती हैं।

हिमाचली लोकगीतों में भी ‘बारहमासा’ की परंपरा मिलती है। इन रचनाओं में लोक कवियों ने वर्ष के बारह महीनों की प्रकृति संबंधी परिवर्तन विशेषताओं के परिप्रेक्ष्य में विरह पीडि़ता की मनःस्थिति को बड़ी सहजता से वर्णित किया है। ये गीत लोक नारी की प्राकृतिक स्थितियों के परिप्रेक्ष्य में, विरह अवस्था में, अनुभूत मनःदशाओं की सहज, सरल एवं संवेद्य अभिव्यक्ति है। इनमें कल्पना द्वारा स्वप्निल संसार बनाने-बसाने की बात नहीं है। इनमें लोक कवि ने तो जो देखा और जैसा अनुभव किया, उसे जैसे भी कहना-सुनाना चाहा है, स्पष्ट, सरल एवं मधुर शब्दों में कह दिया है। यह काव्य शैली लोकनारी के विरहजनित हृदय की प्रवृत्तियों, चेतना, शारीरिक एवं मानसिक दशाओं आदि का पूर्ण बिंब उभारती है।

वे सभी स्थितियां जिनमें वह जीती है, जैसी अनुभूतियों को संजोती है, वे सब उजागर हो उठी हैं, इन गीतों में। हम उसकी मनःस्थिति से साम्यस्थापित करते, उसके प्रति संवेदनशील बन तदनुरूप भावों की प्रतीति करते, उन्हीं पंक्तियों को गुनगुनाने, दोहराने लगते हैं। इन गीतों की भाव एवं शिल्पगत विशेषता इसी सहजभाव में निहित है। बारहमासा लोककाव्य में परंपरित सतमासा (सात मास का वर्णन) में चैत्र मास से अश्विन मास तक तथा छह मासा (छह मासों के वर्णन) में चैत्रमास से आषाढ़ मास तक, मास दर मास प्राकृतिक-परिवर्तन के परिप्रेक्ष्य में, विरह पीडि़ता नारी द्वारा अनुभूत विरह भावनाओं का वर्णन मिलता है। इसी प्रकार त्रैमासा और दो मासा रूपों का कथानक मिलता है। ऐसे लोक काव्य को ऋतुगीतों के अंतर्गत रखना सही है, जिनका भाव लोक सहज होता हुआ भी अत्यंत मार्मिक है।

बारहमासा रूपों में वर्ष के प्रत्येक मास के प्राकृतिक परिवर्तन के प्रभाव से लोकनायिका के शरीर पर पड़ते प्रभाव और उसकी बदलती मानसिकता या सोच को सरल एवं सहज शब्दों  में व्यंजित किया गया है। हर महीने की अपनी प्राकृतिक सुषमा, त्योहारीय आकर्षण, लोकाचार-परंपरा एवं भौगोलिक प्रभाव हैं। नायिका उन्हीं प्रभावों-परिवर्तनों तथा आकर्षणों से प्रभावित उन्हीें का बहाना बनाती, आकर्षण जताती प्रिय, परदेशी प्रियतम को घर आने या घर पर ही रहने का आग्रह करती है। अथवा उसके विरह में, उस मास में आए प्राकृतिक परिवर्तनों के प्रभाव से जनित सुख-दुख की अनुभूतियों को व्यक्त करती अपनी विरह वेदना की सहज व्यंजना करती है।

चैत्र मास की प्राकृतिक विरह उद्दीपनता कम नहीं होती कि अचानक चुपके-चुपके लुका-छिपी करता बैसाख मास अपने प्राकृतिक हाव-भाव से उससे छेड़खानी करने लगता है। जेठ की तपती दोपहरी और उसके हृदय में प्रियतम-वियोग की धीरे-धीरे सुलगती बढ़ती अग्नि सहते सहन नहीं होती। ऋतुओं को क्या लेना देना किसी के सुख-दुख से। उन्हें तो कालचक्र में बंधे निरंतर क्रम से आना-जाना है, खिलना-मुरझाना है, तपना-बरसना है। सावन की पुरवाई, पपीहे का कं्रदन, बादलों की गर्जन, बिजुरी की कड़कन नवयौवना विरहिणी को सताती-खिझाती नहीं थकती।

नदियों में बाढ़ का पानी उतर गया, रास्ते सूखने लगे, बरसात के रुके यातायात फिर चल पड़े, सूने मार्ग महकने, गमकने-बतियाने लगे, परंतु कहीं-कहीं तो दिवाली तथा होली के त्योहार अपनी तिथियों पर आते लोकरंजन करते, लोकजीवन में रंग-रस, गंध बिखरेते, सब सूने-सूने बीत गए, चित्तचोर की प्रतीक्षा करते-करते, दिन गिनते-गिनते अंगुलियों के पोर घिस गए। न पिया आए, न घर सजा, न गीत गूंजे, न सुहागिन सजी, न हिंडोले-पींहगे झूलीं, न सहेलियों ने रिझाया, न पिया ने मनाया।

सब फीका-फीका सा, सूना-सूना सा रहा, उसकी अनुपस्थिति के खालीपान को कोई नहीं भर सका। विकल्प भी तो नहीं है लोकनारी के स्वच्छ प्रतिबद्ध हृदय में। निष्कर्ष में कहा जा सकता है कि सरल शब्दावली में व्यक्त, कल्पना रहित सपाट बयानी की खूबसूरती में इन बारहमासों में, लोकनारी के विरह-वियोग की मनस्थितियों का सहज, सुंदर तथा प्रभावपूर्ण वर्णन मिलता है।

इन्हें सुनते या पढ़ते समय नायिका द्वारा अनुभूत एवं भोगी हर स्थिति का पूर्ण बिंब साकार हो उठता है। अंजुआं हार परोआं, खाण-पीण नी भौएं, पापी विरह सताए, पौण चले पुरवाई, कालजा निकली जांदा बाहर, भाद्रूं न्हेरियां रातीं, बदलैं गरजी डराई, खाणा पौंदी पहाड़ी आदि सहज भाव में प्रयुक्त वाक्यांश एवं मुहावरा प्रयोग नायिका के मन में निहित भावों का अर्थ देते पूर्ण स्थिति को साकार संप्रेषित करते पाठक के मन में विरह व्यथिता नारी की कारुणिक स्थिति को उजागर करते, पूर्व बिंब उभारते हैं। उसकी स्थितियों से जोड़ते हैं। श्रोता-पाठक में तद्गत भावों की सहज प्रतीति और रस-निष्पत्ति अनायास होने लगती है। यही इन रचनाओं की खूबसूरती है, अर्थ एवं गीति-सौंदर्य है। यही इनकी सरसता, निरंतरता और जीवंतता का मूल कारण है।

बारहमासे लोकसाहित्य एवं लोक संस्कृति की उत्कृष्ट रचनाएं हैं, जिनकी संवेदना शिष्ट साहित्य में रचित बारहमासा परंपरा के समानांतर है। ये रचनाएं कल्पना और शब्द प्रयोेग के आडंबर से रहित, भाव व्यंजना में पूर्ण हैं। इनमें प्रतीक रूप में वर्णित भाव तथा प्रयुक्त सहज शब्द विरहिणी नायिका की ऋतु से प्रभावित मानसिक, शारीरीक स्थितियों के स्पष्ट बिंब उभारने तथा वैसे ही भावों की प्रतीति कराने में पूर्ण सफल एवं समर्थ हैं। सामाजिक सरोकारों के दस्तावेज हैं ये गीत।

इन्हें सुनते ही विरहिणी लोक नायिका से जुड़ा कथावृत, परिवेशगत स्थितियां, मनोदशाएं, पारिवारिक संबंध, व्यवहार आदि स्वतः अनावृत होने लगते हैं। इनमें कथा न होने पर भी एक अव्यक्त कथानक साकार होने लगता है। स्थितियों के द्वंद्व में पात्रों के चेहरे उभरने लगते हैं। सामाजिक, आर्थिक, वैकासिक तथा मनोवैज्ञानिक दृष्टि से भी इन रचनाओं को महत्त्वपूर्ण कहा जा सकता है। लोक-समाज की वैकासिक परंपरा के अध्ययन में इन रचनाओं की भी उतनी ही महत्त्वपूर्ण उपयोगिता है,जितनी लोक संपदा के अन्य रूपों की। समाज-शास्त्र, नृ-विज्ञान एवं मनोविज्ञान के परिप्रेक्ष्य में भी इनका मूल्य नकारा नहीं जा सकता है। समग्रतः विभिन्न दिशाओं में इनके अध्ययन के व्यापक आयाम खुले हैं।

बाहरमासा में वर्णित कृष्ण लोकनारी का प्रवासी प्रियतम है, जो जैविक समस्याओं के कारण वर्षों बाद घर लौट पाता है। पर्वतीय जनजीवन आर्थिक संघर्षों का जीवन रहा। यहां युवा वर्ग अवयस्कता में ही मैदानी शहरों या सीमांती क्षेत्रों में चल रहे विकास कार्यों में नौकरी ढूंढने चला जाता। तब मजदूरी की दरें कमी थीं, यातायात के साधन कठिन तथा महंगे थे। घर को कुछ और अधिक कमाकर  लाने की लालसा उसे मजबूर करती कि वह जब घर से निकला ही है तो क्यों नहीं साल-दो साल लगाकर कुछ कमा कर ही घर लौटे।

माता-पिता तथा पत्नी भी सहते रहते, इसी लालसा में लंबे अलगाव को। उसकी पत्नी या प्रेमिका को उसकी प्रतीक्षा में राह बिसूरते वर्षों बीत जाते। घर में सास-ससुर तथा जेठ-जेठानी से स्नेह भरे व्यवहार एवं वातावरण का अभाव उसके हृदय को प्रिय परदेशी प्रियतम की चिंता में और भी संवेदनशील तथा आकुल-व्याकुल बना देते। युवा प्रेमी परदेशी नायक भी उसी परिपे्रक्ष्य में राहें बिसूरता, प्रिया मिलन के संयोगी सपने बुनता जीवन के मीठे-कड़वे घूंट निगलता, विवश घर नहीं लौट पाता। संभवतया लोकनायक एवं लोकनायिका की इन संवेदशील स्थितियों  से प्रभावित होकर ही लोक कवि ऐसी बारहमासा रचनाएं करने में मजबूर हुआ होगा।

एक तरफ जैविक समस्याओं की मजबूरी दूसरी ओर गृहस्थी में व्यावहारिक विसंगतियों  की भीड़, दोनों प्रेमी हृदयों को परस्पर स्मरण में गुनगुनाते, विरह पीड़ा में सुलगते जीवन व्यतीत करने को विवश करती रही होगी। संभवयता इन्हीं स्थितियों में जन्मा होगा बारहमासा लोककाव्य। वास्तव में विशेष स्थितियों में ही जन्मती हैं अनुभूतियां और प्रतीति साकार होती है अभिव्यक्ति में। आकार पाते हैं शब्द, वाक्य, रंग और स्वर। उभरते हैं चित्र, गूंजने लगते हैं गीत-गाथाएं, गमकते हैं ताल-वाद्य। थिरकते हैं पांव, जन्म लेती हैं लोककलाएं और जीवन पाती हैं परंपराएं। चिंतन, अनुभूति एवं सृजन का यह क्रम आदिकाल से निरंतर चला  आ रहा है। निरंतर चलता रहेगा।

-डा.गौतम शर्मा ‘व्यथित’

May 29th, 2016

 
 

लाउड व्हिस्पर्ज में लाउड कुछ भी नहीं

हिंदी एवं अंग्रेजी के सुपरिचित कवि ललित मोहन शर्मा का चौथा कविता संग्रह ‘लाउड व्हिस्पर्ज’ जीवन के झंझावातों को सहर्ष लांघते हुए चुपचाप पेड़ की छाया के नीचे बैठकर विचारों की जुगाली और विगत को कल्पना में जीने का सार्थक,रोचक एवं महत्त्वपूर्ण प्रयास है। वास्तव […] विस्तृत....

May 29th, 2016

 

कविताएं

सच में एक परी हो तुम गुलाब सी कोमल हो तुम। हवा सी चंचल हो तुम। कोयल सी मीठी हो तुम। संगीत सी मधुर हो तुम। कोई हूर या अप्सरा हो तुम। सच में एक परी हो तुम। दादा-दादी की जान हो तुम। मम्मी-पापा की […] विस्तृत....

May 29th, 2016

 

पत्रकारिता में गुंथा हुआ है साहित्य

सत्य और तथ्य को बेलाग और सृजनात्मक तरीके से अभिव्यक्त करना ही रचनाधर्मिता है। साहित्यकार और पत्रकार की रचनाधर्मिता के क्षेत्र अलग-अलग होते हुए भी दोनों में चोली-दामन का साथ है। दोनों ही समसामयिक समाज का प्रतिनिधित्व करते हुए अपनी लेखनी के माध्यम से समाज […] विस्तृत....

May 29th, 2016

 

महिला लेखन की हिमाचली यात्रा

सरोज वशिष्ठ , रेखा वशिष्ठ , चंद्ररेखा डढवाल , सरोज परमार , नालिनी विवा , डा. उषा वंदे , हरिप्रिया                  आज जब हम भिन्न-भिन्न पत्र-पत्रिकाओं के कॉलम देखते हैं तो उसमें ‘स्त्री-विमर्श’, ‘स्त्री-स्वर’ या ‘स्त्री लेखन’ का संदर्भ मिलता है। ‘स्त्री लेखन’ होता क्या है? […] विस्तृत....

May 22nd, 2016

 

शाकाहारी संवेदना को बुकर

सोल इंस्टीच्यूट ऑफ आर्ट्स में रचनात्मक लेखन पढ़ाने वालीं 45 वर्षीय कांग दक्षिण कोरिया में पहले ही मशहूर हैं और वह यी सांग लिटरेरी प्राइज, टुडेज यंग आर्टिस्ट अवार्ड और कोरियन लिटरेचर अवार्ड जीत चुकी हैं। ‘द वेजिटेरियन’ उनका पहला उपन्यास है, जिसे 28 वर्षीय […] विस्तृत....

May 22nd, 2016

 

इनां सयाणयां जो लेआं समझाई…

घुमारवीं में ग्रीष्मोत्सव के उद्घाटन का मौका था। इस अवसर पर बतौर मुख्यातिथि पधारे थे नागालैंड-मिजोरम के पूर्व राज्यपाल व सीबीआई के पूर्व निदेशक तथा हिमाचल प्रदेश पुलिस के पूर्व महानिदेशक डाक्टर अश्वनी कुमार। ग्रीष्मोत्सव में गैर राजनीतिक शख्सियत को मेले के उद्घाटन के लिए […] विस्तृत....

May 22nd, 2016

 

कविताएं

सड़कें कुछ आती कुछ जाती सड़कें, चुप रहतीं बतियाती सड़कें। किसी को लेकर जाती हैं तो, वापस भी हैं लाती सड़कें।। नहीं है चलती पर रुकती कब, सब पूछें, कहां जाती सड़कें। खड़े-खड़े ही इक दूजे से, देर-सवेर मिलाती सड़कें।। कहीं पे मीलों सीधी-लंबी, और […] विस्तृत....

May 22nd, 2016

 

तालाब का सहस्रनाम

महाराष्ट्र के महाड़ इलाके में एक तालाब का पानी इतना स्वादिष्ट था कि उसका नाम चवदार ताल यानी जायकेदार तालाब हो गया। समाज के पतन के दौर में इस तालाब पर कुछ जातियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लग गया था। सन् 1927 में चवदार ताल […] विस्तृत....

May 15th, 2016

 

जाते-जाते भी चौंका गया लेखकों का मसीहा

– डा. सुशील कुमार फुल्ल, पुष्पांजलि, रामपुर (पालमपुर) चौंकाना उनकी अदा थी। दैनिक ट्रिब्यून ने रविवारीय परिशिष्ट में प्रकाशनार्थ उपन्यास मांगा था। मैंने नागफांस उपन्यास विचारार्थ भेज रखा था। सन् 1980 का वर्ष रहा होगा। विजय सहगल का फोन आया…फुल्ल साहब! नागफांस नहीं छपेगा। कहकर […] विस्तृत....

May 15th, 2016

 
Page 20 of 159« First...10...1819202122...304050...Last »

पोल

क्या भोरंज विधानसभा क्षेत्र में पुनः परिवारवाद ही जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates