himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

पर्जन्य : हर भाव, हर रस की अभिव्यक्ति

पुस्तक समीक्षा * पुस्तक का नाम : पर्जन्य * लेखक का नाम : डॉ. आरके गुप्ता * कुल पृष्ठ : 80 * मूल्य : 150 रुपए * प्रकाशक : पार्वती प्रकाशन, इंदौर सुंदरनगर से संबंधित प्रतिष्ठित लेखक डॉ. आरके गुप्ता का कविता संग्रह ‘पर्जन्य’ प्रकाशित हुआ है।…

‘राहुल बने अध्यक्ष’ में खबर क्या थी

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए हैं, इसमें भला खबर क्या है? अध्यक्ष तो वह उसी दिन बन गए थे, जिस दिन पैदा हुए थे। राजा के घर जब बेटा पैदा होता है, तो प्रजा को पता ही होता है कि समय…

कहीं फोरलेन के नीचे दब न जाए यह चीख

डा. एलआर शर्मा लेखक, कालेज काडर के पूर्व प्राचार्य हैं आश्चर्य तो इस बात का है कि राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल किसी चट्टान पर एक स्लोगन लिखने का तो संज्ञान लेता है, परंतु इस शिमला-धर्मशाला राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण में होने वाली विनाश…

एग्जिट पोल का तोल

चुनावी प्रसन्नता के विषयों में इजाफा करते हुए, एग्जिट पोल ने भाजपा की राष्ट्रीय धार के अनुरूप अपना मत प्रकट किया है। जाहिर है राजनीतिक जीत-हार के वर्तमान दौर में सरकारों का अंकगणित जिस हिसाब से हो रहा है, वहां भाजपा के विक्ट्री स्टैंड का…

जरा याद करो कुर्बानी

(प्रताप सिंह पटियाल, बिलासपुर) यदि राष्ट्रभक्ति की बात की जाए, तो पहला नाम भारतीय सैनिकों का ही आना चाहिए, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए जान न्योछावर करके बहादुरी की मिसालें पेश की हैं। इनमें से एक वीरगाथा 16 दिसंबर, 1971 को भारतीय सेना ने…

‘ब्रांड मोदी’ की जीत !

हिमाचल और गुजरात में चुनाव संपन्न हो चुके हैं। अब 18 दिसंबर को अधिकृत जनादेश सामने आएगा, लेकिन एग्जिट पोल के जरिए जिन अनुमानों के संकेत मिले हैं, वे बेमानी नहीं हैं। लोकतांत्रिक चुनाव में सर्वे और एग्जिट पोल का अपना महत्त्व है। सवाल किए जा…

संसद में हल्ले के आसार

(राजेश कुमार चौहान, जालंधर) इस बार के भी संसद के शीतकालीन सत्र पर हंगामे और हो-हल्ले के बादल छा सकते हैं। संसद ऐसा गरिमापूर्ण स्थान है, जहां से देश की आम जनता को सांसदों से कल्याणकारी फैसलों की उम्मीद होती है। अफसोस यह कि देश की संसद में…

सीबीआई की परीक्षा

(ध्रुव, पुराना मटौर,कांगड़ा) कोटखाई प्रकरण की जांच में हर परीक्षा सीबीआई ही क्यों दे? जिन पुलिस वालों को मामले से जुड़ी जानकारी है, उन्होंने अब तक चुप्पी साधी हुई है। उन्होंने अपने जमीर को इस हद तक बेच दिया कि अभी तक मुंह नहीं खोला। अगर वे…

सियासत में धर्म अब ज्यादा स्वीकार्य

प्रो. एनके सिंह लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं देश के कई राज्यों में पराजय से उपजी निराशा के बाद कांग्रेस ने अपने नजरिए में परिवर्तन किया है और वह अब मोदी का मुकाबला उन्हीं की शैली में कर रही है। राजनीति और धर्म का इस…

शिवा के अनुभव का लाभ ले हिमाचल

भूपिंदर सिंह राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक हैं अब तक शिवा केशवन एशियाई स्तर पर चार स्वर्ण, चार रजत व दो कांस्य पदक देश के लिए जीत चुके हैं। अब समय आ गया है जब शिवा केशवन जैसे अनुभवी वरिष्ठ खिलाडि़यों का प्रशिक्षण अनुभव हमारे होनहार किशोर व…

बेलगाम जुबान

(पुष्पांकर पीयूष, केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला) कुछ दिनों पहले कांग्रेस के एक पूर्व नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा प्रधानमंत्री के लिए कुछ असभ्य शब्दों का इस्तेमाल किया। यह उनकी ओछी राजनीति को दर्शाता है, परंतु आज के दौर के राजनीति के…

गुजरात से हिमाचली फासला

धारोई बांध पर उतरा सी-प्लेन महज राजनीतिक विज्ञापन नहीं, बल्कि हिमाचल और गुजरात के बीच का यथार्थ है। चुनाव प्रचार के अंतिम दिन की बहस में देश अपने प्रधानमंत्री को देखता रहा है, तो मतदान के आखेट में विकास की उड़ान की समीक्षा भी कर रहा है।…

वृहद् हिमालय की सांस्कृतिक महत्ता

(अंकित कुंवर, नई दिल्ली) ‘हिमालय का सांस्कृतिक अवदान’ शीर्षक से लिखे लेख में कुलभूषण उपमन्यु ने हिमालय को सांस्कृतिक संरचना का मूलभूत केंद्र बताया है। हिमालय की वादियों में भारतीय संस्कृति का उद्भव हुआ। भारत के प्राचीन ग्रंथों की रचना…

डूबे हैं अब फिक्र में

(सुशील भारती, नित्थर, कुल्लू) रातें तड़प-तड़प कटीं, थे दिन को बेचैन, बोतल-बकरे खरीदे, रखी अराजी रहन। परिंदों की तो है जाति, तीतर आध बटेर, उसी ओर घूरते सब, हो जाता जो ढेर। धड़के दिल चुनावों में, किसका होगा ताज, इश्क में धड़के दिल कहां, जैसे…

शराबबंदी लागू करे नई सरकार

डा. ओपी शर्मा लेखक, शिमला से हैं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें दो समय की रोटी मिले न मिले, पर शराब जरूर चाहिए। बीवी, बच्चे दुखी हों, तो होते रहें, किसे परवाह है इनकी। कितने ही परिवार बर्बाद हो रहे हैं, पर किसी को चिंता नहीं। अपराध में…
?>