Divya Himachal Logo May 22nd, 2017

विचार


गज़ल

छोड़ो भी तकरार कि जीवन छोटा है,

यारो बांटो प्यार कि जीवन छोटा है।

निज-स्वार्थ के लिए रिश्ते से कटना मत,

म्यान में रख तलवार कि जीवन छोटा है।

घमंड की गठरी क्यों उठाए फिरता है,

जल्दी कर, उतार कि जीवन छोटा है।

तेरे सारे पूर्वज तो जग से चले गए,

तू भी मध्यमकार कि जीवन छोटा है।

इक दिन उसने कुंडी पाकर खींच लेना,

छोड़ देना संसार कि जीवन छोटा है।

रूठ गए जो उनको फिर जाकर मना लो,

फिर से करो इकरार कि जीवन छोटा है।

धरती एक सराय है मालिक कोई नहीं,

सब किराएदार कि जीवन छोटा है।

चुगली निंदा तो बंदे की आदत है,

क्यों खींचे दीवार कि जीवन छोटा है।

चुटकी की भांति उम्र सारी बीत गई,

किश्ती लग गई पार कि जीवन छोटा है।

निर्धन, राजा, संत, भिखारी-रूह एक है,

सबका कर सत्कार कि जीवन छोटा है।

सागर सारा गाह कर तट पर बैठा है,

अब कहता है यार कि जीवन छोटा है,

कैसे गिरता सुंदर निर्झर पर्वत से,

ऊंचा रख किरदार कि जीवन छोटा है।

अंबर छू ले, सागर गाह ले फिर न कहना,

यारो को फिर, यार कि जीवन छोटा है।

सामने आकर बात कर लो यदि करनी है,

पीठ पे ना कर वार कि जीवन छोटा है।

सजना प्यार में भरकर खुशबू, सुंदरता,

दे-दे एक उपहार कि जीवन छोटा है।

आंखें खोल कर रख मुंह से कुछ न कह

देखो ना संसार कि जीवन छोटा है।

अदान- प्रदान के तराजू में

सब रिश्ते व्यापार कि जीवन छोटा है।

खेवनहारे किश्ती को भीतर न रख

आर लगा या पार कि जीवन छोटा है।

वह मेरा, यह मेरा है-भ्रम तेरा,

फूलों के साथ खार कि जीवन छोटा है।

चांद सितारे रातों को रूशना देते

यूं करते उपकार कि जीवन छोटा है।

आ-जा, रूठ कर न जा बालम कहता है,

तेरे साथ त्योहार कि जीवन छोटा है।

बलविंदर बालम, गुरदासपुर

ओंकार नगर, गुरदासपुर (पंजाब)

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें !

May 1st, 2017

 
 

‘लाल आतंकवाद’ पर प्रहार कब ?

तिरंगे में लिपटे ताबूत और शहीदों की लाशें…! जिस आंगन की ओर सुरक्षा बलों के जवान बढ़ते हैं, वहां चीत्कार मचने लगता है। मां या पत्नी अथवा बच्चे पछाड़ खाकर गिरते हैं। छातियां पीटी जाती हैं, असंख्य आंसू बहते हैं। एक परिवार का नौजवान ‘शहीद’ […] विस्तृत....

May 1st, 2017

 

बूढ़े पुलों पर दौड़ता पर्यटन

(सुरेश कुमार, योल) चाहा तो यह था कि हिमाचल अपने पर्यटन के लिए पहचाना जाता, अपने शक्तिपीठों के लिए जाना जाता, पर आज हिमाचल की पहचान जाम और ब्रिटिश टाइम के बूढ़े पुलों की वजह से है। पर्यटन सीजन में जब हम पर्यटकों का कारवां […] विस्तृत....

May 1st, 2017

 

रस्म बनकर रह गया है मजदूर दिवस

रस्म बनकर रह गया है मजदूर दिवसदुनिया भर में प्रतिवर्ष पहली मई को मजदूर दिवस अथवा अंतरराष्ट्रीय श्रम दिवस के रूप में मनाया जाता है। मई दिवस समाज के उस वर्ग के नाम किया गया है, जिसके कंधों पर सही मायनों में विश्व की उन्नति का दारोमदार है। इसमें कोई दो […] विस्तृत....

May 1st, 2017

 

रैली के बहाने मोदी के निशाने

उत्तराखंड व यूपी चुनाव में मोदी मैजिक ने विपक्षी दलों को धूल चटा दी है। इसके बाद दिल्ली एमसीडी चुनाव में भी भाजपा ने बहुमत हासिल कर संकेत दिए हैं कि अब भाजपा का विजय रथ थमने वाला नहीं। इसी साल हिमाचल में होने वाले […] विस्तृत....

April 30th, 2017

 

नशा तो दौलत का भी बोतल से कम नहीं

( सूबेदार मेजर (से.नि.) केसी शर्मा, गगल, कांगड़ा ) किसी बुराई से मुक्ति पाना है, तो जन आंदोलन एक कारगर तरीका है, लेकिन शराबखोरी की बुराई का अंत मेरे हिसाब से असंभव है। शराब का सेवन प्राचीन काल से दुनिया में होता आया है। आज […] विस्तृत....

April 29th, 2017

 

प्रजा परिषद का अहम पड़ाव

प्रजा परिषद का अहम पड़ावडा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं प्रेम नाथ डोगरा ने अनेक बार प्रजा परिषद का प्रतिनिधि मंडल लेकर दिल्ली में नेहरू से मिलने की कोशिश की, ताकि उन्हें प्रदेश के लोगों का पक्ष बता सकें। लेकिन लोकतंत्र का दम भरने वाले नेहरू ने […] विस्तृत....

April 29th, 2017

 

भारी पड़ेगा प्रतिभा का तिरस्कार

भारी पड़ेगा प्रतिभा का तिरस्कारपूजा शर्मा लेखिका, स्वतंत्र पत्रकार हैं प्रतिभा पलायन का एक मुख्य कारण है नियुक्तियों में भाई-भतीजावाद। जगजाहिर है कि भाई-भतीजावाद का कितना बोलबाला है। आखिर जिसकी चलती है, उसकी क्या गलती है। लेकिन गला तो प्रतिभाओं का ही घोंटा जा रहा है और नुकसान देश […] विस्तृत....

April 29th, 2017

 

सांस्कृतिक मिट्टी की ‘सांझ’

प्रयास की जिस बड़ी स्क्रीन पर हिमाचली फिल्म सांझ आई, उसमें कहानी से अलग एक विषय यह भी रहा कि प्रदेश के लोग कितनी शाबाशी देते हैं। फिल्म के साथ खड़ा पुरस्कार, इसकी पृष्ठभूमि, संगीत और फिल्मांकन में इतना कुछ तो रहा होगा कि अगर […] विस्तृत....

April 29th, 2017

 

कम नकदी अर्थव्यवस्था की कठिन राह

कम नकदी अर्थव्यवस्था की कठिन राहभारत डोगरा लेखक, स्वतंत्र पत्रकार हैं विमुद्रीकरण के बाद डिजिटल भुगतान प्रणाली और कम नकदी अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों का लोगों ने स्वागत किया है। लेकिन डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए महीने में चार बार […] विस्तृत....

April 29th, 2017

 
Page 20 of 2,075« First...10...1819202122...304050...Last »

पोल

क्या कांग्रेस को हिमाचल में एक नए सीएम चेहरे की जरूरत है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates