जगदीश बाली लेखक शिमला से हैं

चुनाव वाले दिन आप दुबक कर घर पर मत बैठना, नहीं तो वो प्रधान बन जाएगा जिसे आप नहीं चाहते। आप इन उम्मीदवारों के अंगूरी और शहद जैसे जुमलों में मत आना। किसी लालच या छलावे में मत आना क्योंकि ये लोग मंझे हुए छलिए भी होते हैं। अपने विवेक का इस्तेमाल कर ही मत