चुनाव प्रचार में नैतिक सड़ांध

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कई बार ऐसा देखने में आया कि बेशर्मी के साथ मनघड़ंत खबरें फैलाई गईं। मिसाल के तौर पर अरविंद केजरीवाल ने कुछ लोगों के खिलाफ ऐसे गंभीर आरोप लगाए जिन्हें वह प्रमाणित नहीं कर पाए। बाद में…

वाराणसी में चंदन की खुशबू

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कुछ ऐसे भी आलोचक हैं जो कहते हैं कि गंगा अभी भी साफ नहीं है तथा न ही वह गंदगी से मुक्त है। यह सत्य है कि गंगा का पानी धीरे-धीरे साफ हो रहा है, किंतु यह पूरी तरह साफ नहीं है क्योंकि अभी इस…

लोकतंत्र और संस्थानों की रक्षा

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार अगर कोई है जिसने संस्थानों की स्वतंत्रता को नष्ट किया है तथा उनकी कार्यशैली को कुप्रभावित किया है, तो यह पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी हैं। उन्होंने विपक्ष को रैलियां करने की…

कीचड़ से सना मोदी का विरोध

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार इसी लेट-लतीफी के कारण गोवा कांग्रेस के हाथ से निकल गया। उत्तरप्रदेश में महागठबंधन नहीं होना कांग्रेस के लिए चिंताजनक है क्योंकि सपा-बसपा ने गठजोड़ करते हुए उसे इससे बाहर ही रखा। उधर कर्नाटक…

सियासी परिदृश्य में महागठबंधन

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मोदी को रोकने के लिए अथवा भाजपा को पछाड़ने के लिए कांग्रेस ने महागठबंधन बनाने की अवधारणा की परिकल्पना की थी, परंतु यह अभी तक अस्तित्व में नहीं आ पाया है। उधर भाजपा ने, जिसने इस तरह के…

आम चुनाव की तैयारी में देश

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार चाहे कुछ भी हो, यह निश्चय करने के लिए अगला समय निर्णायक होगा कि भारत को विश्व विकास के शिखर पर रहना है अथवा वह अन्य विकासशील राष्ट्रों के साथ निचले सोपान पर छटपटाता रहेगा। यह निश्चित रूप से…

नए चरण में लड़ाई

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार अब मोदी के पास अन्य कोई विकल्प नहीं था सिवाय इसके कि वह स्वयं समस्या को हल करते। 26 फरवरी की तड़के सुबह वायु सेना के एक स्क्वैड्रन ने आतंकवादियों के प्रशिक्षण केंद्रों को निशाना बनाते हुए …

कश्मीर का टिकाऊ समाधान

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मेरा एक अन्य प्रस्ताव यह है कि जम्मू-कश्मीर को हिमाचल के साथ मिला देना चाहिए। ऐसा करके जम्मू, घाटी, लद्दाख, निचला हिमाचल व ऊपरि हिमाचल जैसे रीजन बनाए जाने चाहिएं। पांच या छह जोनल काउंसिल…

हाईब्रिड मॉडल के राज्य खत्म करो

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार मेरा मानना है कि यह उचित समय है जब इस तरह की भ्रांतियों को एकदम खत्म करना होगा। राज्यों की व्यवस्था का जहां तक सवाल है, या तो केंद्र द्वारा शासित केंद्र शासित प्रदेश होने चाहिएं अथवा संपूर्ण…

राजनीति में बढ़ती अराजकता

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार ममता बैनर्जी अपनी नैतिक जीत के दावे के लिए कारण खोज सकती हैं, फिर भी इस मामले में नैतिकता ने अपनी चमक खोई है। जबकि मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी संविधान के अनुपालन का दावा कर रही हैं, उन्होंने एक…

पर्यटन अवसर खो रहा हिमाचल

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार हिमाचल में इस समय प्रति वर्ष पर्यटन से पांच हजार करोड़ रुपए की आय हो रही है। इसे दुगना किया जा सकता है। इसी तरह प्रति वर्ष हिमाचल आने वाले यात्रियों का आंकड़ा अभी 151 लाख है, इसे भी दोगुना…

गणतंत्र दिवस के नए संकल्प

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार गणतंत्र दिवस मनाने का मूल लक्ष्य उन सभी राज्यों को एक साथ लाना था जो अपनी व्यापक विविधताओं के कारण पूरे वर्ष एक मंच पर नहीं आ पाते हैं। नेहरू ने इस समारोह में राज्यों की सामूहिकता तथा उनकी…

हिमाचल में कांग्रेस का असमंजस

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार कांग्रेस जमीनी स्तर पर ऐसी गतिविधियों के बिना सुषुप्त अवस्था में पड़ी रही। खंड स्तर तथा विधानसभा क्षेत्र स्तर पर लड़ाइयां उभर आईं तथा न किसी ने सामंजस्य बनाने की कोशिश की, न कोई मध्यस्थता को…

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार सीबीआई व आरबीआई के मामले में सरकार प्रभावशाली ढंग से काम नहीं कर पाई। सरकार ने भ्रष्टाचार से लड़ने की प्रतिबद्धता तो दिखाई, किंतु इस लड़ाई को वह प्रभावशाली तरीके से नहीं लड़ पाई। शासन में…

मोदी का कोई विकल्प नहीं

प्रो. एनके सिंह अंतरराष्ट्रीय प्रबंधन सलाहकार इंडिया टुडे, जिसका सामान्यतः भाजपा की ओर झुकाव नहीं है, के सर्वे में इसे 257 सीटें दी गई हैं जो कि पूर्ण बहुमत से 16 सीटें कम हैं। उधर सी वोटर ने एनडीए को 276 सीटें दी हैं जो कि पूर्ण बहुमत…